भारतीय दर्शन प्रणाली -2 - Gyan Darpan : Learning Portal

Post Top Ad

Friday, 15 February 2019

भारतीय दर्शन प्रणाली -2

Indian philosophy system

1. निम्न में से किस स्थान पर बुद्ध को एक मनुष्य के रूप में कभी नहीं दर्शाया गया है लेकिन केवल या तो दो पैरों के निशान या पहिया के एक प्रतीक के रूप में दिखाया गया था?
A. सांची
B. लोरिया
C. केसरिया
D. उपरोक्त सभी
Ans: A
2. निम्न में से कौन सा स्कूल सिर्फ ब्राह्मणवाद, जैन और बौद्ध धर्म की वजह से अपनी कला के लिए जाना जाता है?
A. गांधार कला विद्यालय
B. कला के अमरावती स्कूल
C. मथुरा कला विद्यालय
D. इनमे से कोई भी नहीं
Ans: C
3. निम्न में से कौन सा रूढ़िवादी प्रणालियों का जोड़ा हैं?
A. न्याय-वैशेषिक
B. योग-सांख्य
C. मीमांसा-वेदांता
D. उपरोक्त सभी
Ans: D
4. निम्नलिखित प्रणाली में से कौन सा अपरंपरागत सिस्टम भारतीय दर्शन में शामिल नहीं है?
A. चारवकशिम
B. आजीविक
C. जैन धर्म
D. ब्राह्मणवाद
Ans: D
5. भारतीय दर्शन प्रणाली के संबंध में निम्न कथनों पर विचार करें।
I. सभी स्कूल इस बात पर जोर देते हैं कि दर्शन का आदमी के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
II. स्कूलों में पुरुषार्थ के महत्व पर एक आम सहमति है।
III. सभी स्कूलों का मानना है कि दर्शन मानव जीवन का के अंतिम सत्य अर्थात् पुरूषार्थ, अर्थ, काम, धर्म और मोक्ष को साकार करने में आदमी की मदद करता है।
A. केवल I
B. केवल II
C. I एवं II दोनों
D. I, II एवं III
Ans: D
6. निम्न में से कौन रूढ़िवादी भारतीय दार्शनिक प्रणाली की सबसे पुरानी प्रणाली है?
A. सांख्य
B. योग
C. न्याय
D. वैशेषिक
Ans: A
7. निम्न में से कौन-सा पूर्व मीमांस का मुख्य उद्देश्य हैं?
A. पुरवा मीमांसा स्कूल का मुख्य उद्देश्य वेदों की व्याख्या और वेदों का अधिकार स्थापित करना है।
B. पुरवा मीमांसा स्कूल का मुख्य उद्देश्य उपनिषद् (रहस्यवादी या वेदों के भीतर आध्यात्मिक ज्ञान) के दार्शनिक शिक्षाओं पर ध्यान केंद्रित था ना कि ब्राह्मण से (पूजा और बलिदान का निर्देश) पूजा कराना था।
C. केवल A
D. A & B दोनों
Ans: C
8. भारतीय राजनीतिक दर्शन से संबंधित हैं निम्न कथनों पर ध्यान दें।
I. चाणक्य ने चौथी शताब्दी ई.पू. में अर्थशास्त्र के रूप में योगदान दिया था, जो जल्द ही भारतीय राजनीतिक दर्शन के प्रमुख ग्रंथों में से एक हो गया।
II. 20 वीं शताब्दी में स्वतंत्रता के लिए भारतीय संघर्ष के दौरान महात्मा गांधी ने अहिंसा (अहिंसा) और सत्याग्रह (अहिंसक प्रतिरोध) के दर्शन को लोकप्रिय बनाया।
III. गांधीवादी दर्शन हिन्दू भागवद् गीता,यीशु, टाल स्टाय, थोरो और रस्किन की शिक्षाओं से प्रभावित था।
ऊपर दिए गए कथनों से कौन सही हैं?
A. केवल I
B. केवल II
C. I एवं II दोनों
D. I, II एवं III
Ans: D
9. जैन दर्शन से संबंधित सही कथन का चयन करें?
A. जैन दर्शन के केंद्रीय सिद्धांतों की स्थापना 6 वीं शताब्दी ई.पू. महावीर द्वारा की गयी थी, हालांकि एक धर्म के रूप में जैन धर्म ज्यादा पुराना है।
B. एक बुनियादी सिद्धांत अनेकांतवाद, वह विचार है जो वास्तविकता के विभिन्न बिंदुओं से अलग माना जाता है, और उस दृश्य का कोई एकल बिंदु पूरी तरह से सच (आत्मवाद के पश्चिमी दार्शनिक सिद्धांत के समान) है।
C. A & B दोनों
D. दोनों नहीं
Ans: C
10. निम्न में से कौन सा कथन बौद्ध दर्शन से संबंधित हैं?
A. बौद्ध दर्शन बड़े पैमाने पर तत्वमीमांसा, घटना, नैतिकता और ज्ञान-मीमांसा में समस्याओं से संबंधित है।
B. बौद्ध धर्म सिद्धार्थ गौतम,( एक भारतीय राजकुमार बाद में बुद्ध के रूप में जाना जाता है) की शिक्षाओं पर आधारित मान्यताओं की एक गैर आस्तिक प्रणाली है
C. A & B दोनों
D. ना ही A और ना ही B
Ans: C

Post Top Ad