25 March 2019 Current Affairs, Current GK RPSC RRB NTPC Quiz - Gyan Darpan : Learning Portal

Post Top Ad

Monday, 25 March 2019

25 March 2019 Current Affairs, Current GK RPSC RRB NTPC Quiz


इंस्टीट्यूट ऑफ उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान का मुख्यालय स्थित है ?
  • पुणे
  • तिरुपति
  • भोपाल
  • कोच्चि

इंस्टिट्यूट ऑफ मौसम विज्ञान वैज्ञानिक संस्थान जो पुणे, महाराष्ट्र में उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में अनुसंधान का कार्य करती है। 23 मार्च 2019 को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने नई प्रदूषण पूर्वानुमान प्रणाली विकसित करने के लिए अमेरिका और फिनलैंड के साथ कार्य हेतु समझौता हस्ताक्षर किए। यह पूर्वानुमान प्रणाली 2 दिवस पूर्व कण पदार्थ (पीएम) स्तरों की अपेक्षा करने में मदद करेगा।

वह भारतीय राज्य जहां, ओफियोग्लोसम मालवीय नामक दुनिया की सबसे छोटी भूमि फर्न की खोज की गई ?
  • गुजरात
  • केरल
  • मणिपुर
  • उड़ीसा

24 मार्च 2019 को शोधकर्ताओं के एक दल ने गुजरात के डांग जिले में पश्चिमी घाट के अहवा जंगलों में मालवी के एडर-जीभ फर्न (adder’s-tongue fern -Ophioglossum malviae) नामक दुनिया की सबसे छोटी भूमि फर्न की खोज की है। ये फर्न मौसमी होते हैं और ज्यादातर मानसून बारिश में वृद्धि करते हैं। इसका आकार केवल एक सेंटीमीटर होता है (सबसे समान एडर-जीभ फर्न 10 सेमी लंबा होता है)। इसके बीज (जिसे बीजाणु कहा जाता है) में अद्वितीय मोटी बाहरी परत होती है जो इसकी समान प्रजातियों में मौजूद नहीं होती है।

वह देश, जहां विश्व के सबसे बड़े पंख (11.15 सेंटीमीटर) वाले विशाल मच्छर की खोज की गई ?
  • क्यूबा
  • फिलीपींस
  • चीन
  • डेनमार्क

23 मार्च 2019 में चीन के सिचुआन प्रांत में कीटवैज्ञानिकों ने काफी बड़े आकार के मच्छर की खोज की है। इस मच्छर के पंखों का फैलाव 11।15 सेंटीमेटर है। शोधकर्ताओं के अनुसार यह मच्छर दुनिया की सबसे लंबी मच्छर प्रजाति ‘हालोरूसिया मिकादो’ से है। सबसे पहले इस प्रजाति को जापान में खोजा गया था। शोधकर्ताओं के मुताबिक सामान्यतः इस प्रजाति के मच्छरों के पंखों का फैलाव 8 सेंटीमीटर तक होता है लेकिन यह नया मच्छर वास्तव में बहुत बड़ा है।

विश्व की प्रथम पूर्ण पैमाने पर चलने वाली पवन चक्की स्थापित की गई है ?
  • स्कॉटलैंड
  • डेनमार्क
  • श्रीलंका
  • दक्षिण अफ्रीका

विश्व के प्रथम पूर्ण पैमाने पर चलने वाली पवन चक्की को उत्तरी सागर में स्कॉटलैंड के तट के निकट स्थापित किया गया। इस पवन चक्की को “हाइविंड/Hywind” कहा जाता है, जिसका उद्देश्य 20,000 घरों के लिए विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करना है। सामान्य टर्बाइनों के विपरीत, फ़्लोटिंग टर्बाइन नींव द्वारा समुद्रतट से जुड़ी नहीं हैं। बल्कि, वे लंबे समय तक घाट वाले टेटर्स से जुड़े होते हैं, जिससे उन्हें गहरे पानी में रखा जा सकता है।

वह भारतीय भौतिकी वैज्ञानिक, जिन्हें यूनेस्को द्वारा कलिंगा पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है ?
  • तूगत अवतार तुलसी
  • अजय घटक
  • थानू पद्मनाभन
  • प्रोफेसर यशपाल

वर्ष 1952 में वैज्ञानिक विचारों को प्रस्तुत करने में असाधारण कौशल के लिए यूनेस्को द्वारा कलिंगा पुरस्कार प्रारंभ किया गया था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध भौतिकी वैज्ञानिक और उच्च शिक्षा सुधारक प्रोफेसर यशपाल को वर्ष 2009 में कलिंगा पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें ब्रह्मांडीय किरणों के अध्ययन के लिए भी उनके योगदान के लिए जाना जाता था। हमें ध्यान देना चाहिए कि उन्हें वर्ष 1976 में पद्म भूषण और वर्ष 2013 में पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।








No comments:

Post a Comment


Post Top Ad